फिर से ,फिर से ,आज फिर से; छलनी हुआ देश का सीना फिर से; रक्त लारियों से  भींगी धरती फिर से;  आतंक लौट कर आया इक बार फिर से;                       किसका दोष ,किसकी चूक ,पूंछे हम किससे ;                        हृदय मद्य घुसा है शूल फिर भी बैठे है चुप से;                        दहशत चहुओर और चेहरे