मैं मेड हूँ – हिंदी कविता

मैं कोई पेड़ नहीं,कोई खेत नही ,
ना खलिहान हुँ ,ना बगीचा.
.मैं तो हूँ खेतों में समृद्धि के पानी रोकने वाला .
.जिस पर बैठ किसानों ने घाम सुखाये ..
जिसने खुद पर जख्म खा कर माली के उपवन बचाये ..
.जिन पर चल कितनो ने मंजिल को पाये…
पर जब भी मैं महत्वाकांक्षा के आरे आया उसी किसान ने मुझे काट कर खेतों को बढ़ाया ….
जों उड़ानों के बीच आया ..मेरे जख्मों को चीड़ कर रास्ता बनाया….
जब- जब दौड़ाती कदमो से संतुलन ना बिठा पाया…..
मुझे रौंद हर किसी ने पंख है फैलाया …
क्योकि मैं खेत नही ,खलिहान नही ,बाग नही , बगीचा नही…
जिनका कोई मतलब हो ..जिनसे मतलब निकले …
मैं तो …मैं तो…मेड हूँ …मेड…
जो कंही कभी किसी खेत का बचा -खुचा झूठन है …
कभी किसी भागते “राही” की पगडण्डी …
और भला इन्हे कोई क्यों याद रखे …क्योकि मैं ” मेड” हूँ ?????…
जिसपर कुछ नही उगता…जो सबका है और जिसका कोई नही… Ravi kashyap.

main koee ped nahin, koee khet nahin,
na khalihaan hun, na bhaag.
.main to amams mein samrddhi ke paanee ko rokane vaala hoon.
.jis par baitho kisaanon ne ghaam sukhaaye ..
jisane khud par jakhm kha kar maalee ke upavan bachaaye ..
.jin par chal rahe kitano ne manjil ko paaya …
par jab main bhee mahatvaakaanksha ke aare aaya to kisaan ne mujhe kaat kar kheton ko khada kar diya ….

Dekhen Hindi Motivational Image Quotes

jons udaanon ke beech aaya ..mere jakhmon ko cheed kar raasta banaaya ….
kab- kab daudaatee kadamo se santulan na bitha paaya …..
mujhe raund har kisee ne pankh phailaaya hai …
kyoki main khet nahin, khalihaan nahin, baag nahin, bhaag nahin …
jinaka koee matalab nahin hai..jinase matalab nikale …
main to… main to… med hoon… med…
jo kanhee kabhee kisee khet ka ris-gaucha jhoothan hai …
kabhee kisee bhaagate “raahee” kee pagadandee …
aur bhala inhe koee kyon yaad rakhana … kyoki main “med” hoon ????? …
jo kuchh kuchh ugata hai … jo sabaka hai aur jisaka koee nahin … ravi kashyap.

मैं मेड हूँ – हिंदी कविता