क्या आपको हेल्प चाहिए ? Best Moral Story in Hindi

क्या आपको हेल्प चाहिए ? Best Moral Story in Hindi

जिन्दगी में अक्सर ऐसा होता है की जब हम कभी परेशान होते है या किसी मुसीबत में फंसे होते है तो भगवान से हेल्प ( मदद ) मांगते है | हे भगवान सब ठीक करदो \ हेल्प कर दो इत्यादी इत्यादी हमारे जीवन में रोजमर्रा की आदतों में शामिल है | क्या आप भी भगवान से मदद मांगते है ! क्या आपको भी हेल्प चाहिए ?

तो दोस्तों हम सब बचपन से सुनते आयें है भगवान भी उन्ही की मदद करता है जो अपनी मदद खुद करते है | जो लोग मेहनती, अनुशासित, और अच्छे जीवन के उद्देश्य के लिए प्रतिबद्ध हैं, भगवान उनकी मदद जरुर करते है । भगवान कभी भी तब हमारी सहायता नहीं करते हैं, जब हम केवल मांगते रहते है, खुद कोई प्रयास नहीं करते है और सभी काम छोड़ देते हैं।

वे  लोग, जो कड़ी मेहनत और जिम्मेदारी के बोझ से डरते नहीं हैं, हमेशा ईश्वर का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं और अच्छे परिणाम प्राप्त करते हैं। ईश्वर हमेशा उन लोगों को आशीर्वाद देता है जो अपने काम को पूजा के रूप करते हैं।

अगर हम कड़ी मेहनत न करे और केवल पूजा करते रहें , तो भगवान न तो खुश होंगे और न ही हमें सफलता मिलेगी । यह हमारी कड़ी मेहनत ही है जो हमें ईश्वर का आशीर्वाद पाने और शीर्ष तक पहुंचने में मदद करता है। मैने एक कहानी पढ़ी जो की हमे यही सीख देता है की भगवान भी उन्ही की मदद करते है जो खुद अपनी मदद करते है |

 

यह एक किसान की कहानी | एक बार जब किसान बारिश के समय बाज़ार से अपने बैलगाड़ी से लौट रहा था | रात हो चुकी थी | भारी बारिश के कारण गाँव सड़क किचर ( Mud ) से भर गयी थी और कहीं कहीं काफी पानी जमा हो गया था | अचानक चलते चलते गहरी मिट्टी और किचर के कारण बैलगाड़ी एक गड्डे में फंस गयी । बैलों ने खूब दम लगाया पर गड्डे और काफी किचर हो जाने के कारण बैलगाड़ी नहीं निकल पाया |

किसान ने भी मन लिया की दोनों बैल मिलकर अब गाड़ी को नहीं निकल पाएंगे | किसान अब घबरा गया और परेशान हो गया | एक तो बारिश का मौसम ऊपर सा रात का सन्नाटा | न आगे जा सकते थे न ही लौट सकते थे | दिन होता तो फिर भी कोई राहगीर मिल जाता तो मदद मिल जाती | अब रात में यह कौन मिलेगा ! अब तो किसान को एक ही रास्ता दिखा भगवान का | दोनों हाथ जोड़ करके भगवान से फरियाद करने लगा | हे भगवान मदद करो | ये में किस मुसीबत में फंस गया | ऐसे ही जीवन में इतनी कठिनाई है ऊपर से सुनसान रात में यहाँ फंस गया | हे भगवान कोई चमत्कार करो | ऐसे से भगवान से काफी देर तक किसान फरियाद करते रहा | पर कोई कुछ असर नहीं दिखा |

अब तो किसान को अपने साथ साथ बैलो की चिंता भी होने लगी | ये बैल उसके जीवन का अहम् हिस्सा थे | खेती बड़ी , बैलगाड़ी इत्यादि हर काम बैलो पे ही निर्भर था | अचानक न जाने यु मायूस बैठे बैठे किसान के दिमाग में कोई बात आई और वो बैलगाड़ी से उतर गया | अब उसने बैलो को पुचकार कर उनके पीठ पर हाथ फिर औरबडबडाया तुम दोनों पूरा दम लगायो इसबार गाड़ी निकल जाएगी क्युकी में भी तो हूँ  यह बात किलो को बोलकर किसान बैलगाड़ी को हाथ से पूरी ताकत से आगे ढकेलने लगा | उधर बैल भी अपनी पूरी ताकत से बैलगाड़ी खीचने लगे | और देखते ही देखते बौल्गादी गड्डे से बहार निकल आई |

बैलगाड़ी निकलने के बाद किसान को बहुत ख़ुशी हुई साथ ही उसको ये बात भी समझ आ गयी की अगर भगवान की मदद चाहिए तो अपनी पूरी ताकत से प्रयास करना होगा | आप अपनी पूरी ताकत लगावोगे तो उससे कही ज्यादा ताकत से भगवान आपका साथ देंगे और आपकी मदद करेंगे | सिर्फ बैठके मदद मांगने से कुछ नहीं होने वाला |

सच ही है दोस्तों ये कहानी | में खुद इस बात को आपने जीवन में महसूस कर चूका हूँ | बैठ के चाहे आप कितनी भी मिन्नत कर लो कुछ नहीं होने वाला | सच्चे दिल से पूरी मेहनत से कोशिश करो तो कुछ भी ऐसा नहीं जो ना हो सके | क्यों सही है ना !

 moral-story-hindi भगवान भी उन्ही की मदद करते है जो खुद अपनी मदद करते है |
भगवान भी उन्ही की मदद करते है जो खुद अपनी मदद करते है |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *