लालकिला की दीवारों का इतिहास

लालकिला की दीवारों  का इतिहास

दिल्ली के इतिहास में ही नहीं भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में भी लालकिला खास अहमियत रखता है। भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के चश्मदीद गवाह और आजादी के मतवालों के प्रेरणास्रोत रहे ऐतिहासिक लाल किले ने न सिर्फ दिल्ली के उतार-चढ़ावों को करीब से देखा है, बल्कि वह कभी उसके दर्द से कराहता, तो सुखद पलों में खुशियों से झूमता भी रहा है। इसने दिल्ली को, जिसे उन दिनों ‘शाहजहांनाबाद’ के नाम से जाना जाता था, शाहजहां के आगमन पर खुशी से सजते देखा तो विदेशी आक्रांताओं के जुल्मों से बेनूर होते भी देखा।

यह किला मुगलकाल के ऐशो-आराम, रौनकों, महफिलों, रंगीनियों और पूजा की खुशहाली का चश्मदीद गवाह रहा तो उसने विदेशी हमलावरों के जुल्म और लूटपाट से बदहवास और बेनूर दिल्ली वालों के दिलों में छुपे दर्द को भी देखा।
इस किले की बुनियाद सन् 1639  में रखी गई थी। इसके निर्माण में नौ वर्ष का समय लगा था। इसके निर्माण में ज्यादातर लाल पत्थरों का इस्तेमाल किए जाने के कारण ही इसे ‘लाल किला’ नाम दिया गया।

red

प्रथम स्वतंत्रता संग्राम सन् 1857  के दौरान अंग्रेजी हुक्मत ने आजादी के मतवालों पर ही कहर नहीं ढाया था, बल्कि मुगल बादशाह शाहजहां के शासन काल में बने इस भव्य किले के कई हिस्सों को भी नुकसान कर वहां सेना की बैरकें और दफ्तर बना दिए थे और इस किले को रोशन करने वाले मुगल सल्तनत के आखिरी बादशाह बहादुरशाह जफर को भी कैद कर के रंगून भेज दिया था।

आजादी की लड़ाई के दौरान लाल किले पर तिरंगा फहराने की ख्वाहिश रखने वाले भारत के  मतवालों  के दिलों में उफनती रहीं। 15  अगस्त  1947 को देश आजाद हो गया और इसकी प्राचीर पर प्रधानमंत्री ने तिरंगाफहराया।
इस किला को  ऐसा बनवाना शुरू किया गया, जो आगरे के किले से दोगुना और लाहौर के किले से भी बड़ा हो। उसकी बुनियाद का पत्थर इज्जर खां की देखरेख में रखा गया। कारीगरों में सबसे बड़े उस्ताद अहमदवहामीचुनेगए।

इज्जत खां की देखरेख में यह काम पांच महीने दो दिन रहा। इस अर्से में उसने बुनियाद करवाई | इज्जत खां को सिंध जाने का हुक्म मिला और काम अलीवर्दी खां के सुपुर्द कर दिया गया। उसने दो वर्ष, एक माह, चौदह दिन में किले के गिर्द फसील को 12-12 गज ऊंची उठाई। इसके बाद अलीवर्दी खां बंगाल का सूबेदार बन गया और किले का काम उसकी जगह मुकर्रमत खां के सुपुर्द हुआ, जिसने किले की तामीर पूरी कराई। उस वक्त बादशाह शाहजहां काबुल में था।

एक दिन बादशाह सलामत अरबी घोड़े पर सवार होकर बड़े गाजे-बाजे के साथ किला मोहल्ला (लालकिले) में दरिया के दरवाजे (हिजरी दरवाजा) से दाखिल हुआ। जब तक शाहजहां दरवाजे तक नहीं पहुंच गया, तब तक उसका पुत्र दाराशिकोह उसके सिर पर चांदी और सोने के सिक्के फेंकते रहा।

महलों की सजावट हो चुकी थी और सहनों में फर्श पर कालीन बिछे हुए थे। दीवान-ए-आम की छतों में, दीवारों पर और ऐवानों पर खाता और चीन की मखमल और रेशम की चादरें टंकी हुई थीं। बीच में एक निहायत आलीशान शामियाना लगाया गया था, जिसका नाम दलबादल था। यह शामियाना अहमदाबाद के शाही कारखाने में तैयार कराया गया था। यह 70 गज लंबा और 45 इंच चौड़ा था और इसकी कीमत एक लाख रुपये थी। शामियाना चादीं के उस्तपों पर खड़ा किया गया था। और उसमें चांदी का कटहरा लगा हुआथा।

दीवान-ए-आम में सोने का कटहरा लगा हुआ था। तख्त की छत में मोती लगे हुए थे|
यह किला अष्टभुजाकार है और इसके पश्चिमी तथा पूर्वी दोनों किनारे लम्बे हैं। उत्तर की ओर यह किला सलीमगढ़ से एक पुल से जुड़ा है। यह 900  मीटर लंबा और 550  मीटर चौड़ा है और इसकी प्राचीरें 2.41 किमी की परिधि में हैं जो ऊंचाई में शहर की ओर 33.5 मीटर और नदी के साथ 18 मीटर ऊंची हैं। प्राचीर के बाहर की ओर एक खंदक है जो प्रारंभ में नदी से जुड़ी हुई थी।

किले में पांच दरवाजे थे। लाहौरी और दिल्ली दरवाजा शहर की तरफ और एक दरवाजा दरिया की तरफ सलीमगढ़ में जाने के लिए था। चौथा था खिड़की या दरियाई दरवाजा और पांचवां दरवाजा असद बुर्ज के नीचे था। इस तरफ से किश्ती में सवार होकर आगरे जाते थे। किले की चारदीवार में बीच-बीच में बुर्ज बने|
लाहौरी दरवाजा सदर दरवाजा था। यह किले की पश्चिमी दीवार के मध्य चांदनी चौक के ऐन सामने पड़ता था। शाहजहां के वक्त खाई पर से गुजरने के लिए काठ का पुल था। दरवाजे के सामने एक खूबसूरत बाग लगा हुआ था और इसके आगे चौक था।

दक्षिणी दरवाजा है, जिसे दिल्ली दरवाजा कहते हैं। यह जामा मस्जिद की तरफ है। बादशाह इसी दरवाजे से हर जुम्मे की नमाज पढ़ने जामा मस्जिद जाया करते थे।

सन् 1756  में राठों और अहमदशाह दुर्रानी की लड़ाई ने भी यहां की इमारतों को काफी नुकसान पहुंचाया। गोलाबारी के कारण दीवाने खास रंगमहल मोती महल और शाह बुर्ज को काफी नुकसान पहुंचा।

सन् 1857  के विद्रोह के बाद किले के अंदर की इमारतों का बहुत-सा हिस्सा हटा दिया गया। रंगमहल मुमताज महल और खुर्दजहां के पश्चिम में स्थित जनता महलात और बागात तथा चांदीमहल खत्म कर दिए गए।

इसी किले के प्राचीर पर 90 वर्ष तक यूनियन जैक लहराता रहा और 15 अगस्त सन् 1957 में पंडित नेहरू ने तिरंगा फहराकर देश की आजादी का ऐलान किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: