फिर से !!!!!!

फिर से ,फिर से ,आज फिर से;
छलनी हुआ देश का सीना फिर से;
रक्त लारियों से  भींगी धरती फिर से;
 आतंक लौट कर आया इक बार फिर से;

                      किसका दोष ,किसकी चूक ,पूंछे हम किससे ;
                       हृदय मद्य घुसा है शूल फिर भी बैठे है चुप से;

                       दहशत चहुओर और चेहरे गम-सुम से;
                      कर्ण विदारक चीत्कारों को सुने हम  अब कैसे;
  होंगी जाँच ,बैठेंगी समितियां ,अब फिर से;
  कोरी जिरह करेंगे सब मिल  के ;
  कोई ढाढस,किसी को लगेगा आम सा ;
  कोई जोड़ेगा इसे किसी  “रंग” से;
                  हूलड-हुड़दंग ,शोक सभाऐ,संसद स्थगन ,फिर से;
                  बड़ी -बड़ी चर्चाऐ,रोचक वार्ताऐ,फलक कैमरों के चप्पे -चप्पे;
                  आम होंगी  फिर दह्शद गथाओ के किस्से ;
                  खूब बिकेंगी ये चर्चाऐ और लोक कल्याण की झूठी गप्पे ;
   कल फिर कम होगा गर्माहट हल्क़े-हल्क़े;
   फिर ग़ुम हो जाएँगे  सब अंशु और आहे ;
    प्रश्न अनुतरित छोर ,ठंढी होंगी फिर हवाए ;
    चीख की खोज में,रक्तपात का इंतजार होगा फिर से |

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *